पूर्ण शराब बंदी – सरकार का एक बेहतरीन या बेवकूफी भरा फैसला

कुछ भी बोलने से पहले मैं ये बात साफ कर देना चाहता हूँ कि मैं किसी की यहाँ वकालत नहीं कर रहा और न ही किसी के अपमान का कोई इरादा है मेरा। मैं बस अपने विचार यहाँ व्यक्त कर रहा हूँ। 26 नवम्बर 2015, बिहार के मुख्य मंत्री श्री नितीश कुमार का एक फैसला […]


आजादी के लगभग ७० साल बाद भी, क्या सच में हम आजाद हो गए है?

आजादी के लगभग ७० साल बीत गए, काफी कुछ बादल गया है। मैंने भी अपने जीवन में लगभग २५ साल आजादी की हवा में सांस जरूर ली है। बचपन के दिनों में इस दिन का एक अलग ही महत्व था। सुबह जल्दी उठ कर स्कूल के लिए तैयार होना, स्वतन्त्रता दिवस के लिए भाषण तैयार […]


मैं झूठ नहीं बोलना चाहता की मैंने दुनिया देख ली है

हमने पूरी दुनिया देखी है। कितना घूमोगे और क्या करोगे घूम कर। पैसे बचाना सीखो, आगे काम आयेगा। ये सब अमूमन हर किसी ने कभी न कभी अपने माता पिता या बड़े बुजुर्गों से सुना ही होगा। मैं उनकी किसी बात से असहमत नहीं हूँ, पर ये भी तो जरूरी नहीं की हर बार वो […]


शिक्षक दिवस : एक दिन हमारे शिक्षकों के नाम

आज 5 सितम्बर का दिन है और आज पूरा हिंदुस्तान इस दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मानता है। और ये बात लगभग सभी लोग जानते ही है की ये दिन हमारे डॉ. सर्वेपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। उनके बारे में अब मैं क्या कहूँ मैंने उन्हें कभी नहीं […]


फ्रेंड्शिप डे : यानी दोस्तों का दिन

फ्रेंड्शिप डे, एक ऐसा दिन जो पूरी तरह से दोस्तों को समर्पित है। इसका चलन दक्षिणी अमेरिका से शुरू हुआ और आज यह लगभग पूरे विश्व में अगस्त महीने के पहले इतवार को मनाया जाता है। हालांकि मुझे इस दिन में कोई खास दिलचस्पी नहीं है क्योंकि दोस्तों के लिए तो मेरा हर दिन ही […]